Facebook GroupJoin Group for new bhajans, qwallis and videos

Category: Saakhiyan

Saakhi- Karm hi bhakti

मै अपने ताया सरदार पीतम सिंह जी के साथ हुई बात का वर्णन कर रहा हूं।  पाकिस्तान बनने के बाद वे पटियाला के पास एक गांव में रहने
Read More

Saakhi- Transfer aur Tarakki

सन 1961 में परम पूज्य हजूर जी फैजाबाद में रहते थे। उन दिनों मेरे पिता गुरबख्श सिंह ढिल्लो मिलिट्री  में नौकरी करते थे और उनकी पोस्टिंग लखनऊ में
Read More

Saakhi- Sewa khushi se kare

यह बात देश के बंटवारे से पहले की है। हम उस समय मॉडल टाउन लाहौर में रहते थे।  मेरे पिताजी बहुत बीमार रहते थे, अपनी मृत्यु से कुछ समय
Read More

Saakhi- Jameen ki registry Bhola Singh Ji

 सन 1964 में हमारे गुरु भाई प्रीतम  सिंह जी व सूरत सिंह परम पूज्य हजूर के दर्शन करने जबलपुर गए।  उन्होंने वापिस आकर हुज़ूर जी का मेरे लिए दिया
Read More

Saakhi- Krishna Roop

यह घटना 1967 की है ।   पंडित हरबंस लाल जो भगत सावन सिंह जी के अमृतसर से मित्र थे , वे  अपने मन्दिर के लिऐ मुर्तियां लेने
Read More

Saakhi- Bulaawa Aa Gaya

यह साखी  सन 1959 की है, जब मेरे पति बहुत बीमार थे।  उनकी हालत इतनी खराब थी कि बचने की उम्मीद नहीं थी।  ऐसी स्थिति में मैं उदास मन
Read More

Saakhi- Vinashkalay Viprit Buddhi

. साखी नं 29 “विनाशकाले विपरीत बुद्धि” बदमाश रामलाल मुच्छड़ को उसके दुष्कर्मो की सजा देना। मेरे हजूर जी 1963 में पंचमढ़ी में विराजमान थे। मैं महाराज जी
Read More